थीम चुनें   box box box box    
 
 
 
    

कड़कड़डूमा जिला न्यायालय का इतिहास

कड़कड़डूमा न्यायालय परिसर में दिनांक 15.05.1993 से कार्य शुरू हुआ। इस परिसर का उद्घाटन दिल्ली उच्च न्यायालय के तत्कालीन माननीय मुख्य न्यायाधीश श्री जी.सी. मित्तल द्वारा किया गया था। कड़कड़डूमा न्यायालय परिसर का कुल क्षेत्र 60200 वर्ग मीटर है जिसमें 48086.25 वर्ग मीटर बना क्षेत्र है। कड़कड़डूमा न्यायालय परिसर में पूर्व, उत्तर-पूर्व व शाहदरा जिलों से संबंधित दीवानी, फौजदारी व वैवाहिक मामलों के मुकदमों पर कार्यवाही की जाती है।

Ø    कड़कड़डूमा न्यायालय परिसर में दिनांक 05.05.2006 को मध्यस्थता प्रकोष्ठ परिचालित किया गया तथा इसका उद्घाटन माननीय न्यायमूर्ति श्री एस.बी. सिन्हा, न्यायाधीश, सर्वोच्च न्यायालय, भारत द्वारा किया गया।

Ø   वादियों व अधिवक्ताओं की सुविधा के लिए कड़कड़डूमा न्यायालय परिसर में दिनांक 18.01.2007 को माननीय न्यायमूर्ति श्री एम.के. शर्मा, तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश, दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा एक सुविधा केन्द्र का शुभारंभ किया गया।

Ø    माननीय न्यायमूर्ति श्री ए.पी. शाह, तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश, दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा दिनांक 03.07.2008 को सभागार का उद्घाटन किया गया।

Ø   देश के प्रथम ई-न्यायालय की स्थापना कड़कड़डूमा न्यायालय परिसर में की गई थी तथा माननीय न्यायमूर्ति श्री ए.पी. शाह, तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश, दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा दिनांक 08.02.2010 को इसका उद्घाटन किया गया था।

Ø    माननीय न्यायमूर्ति श्री मदन बी. लोकुर, वर्तमान न्यायाधीश, सर्वोच्च न्यायालय, भारत द्वारा दिनांक 26.03.2010 को पुस्तकालय का उद्घाटन किया गया।

Ø    कार्यालय दिल्ली विधिक सेवाएँ प्राधिकरण का उद्घाटन माननीय न्यायमूर्ति श्री मदन बी. लोकुर द्वारा दिनांक 24.04.2010 को किया गया।

Ø    कड़कड़डूमा न्यायालय में आधुनिक लॉक-अप तथा तिहाड़ जेल की दुकान का उद्घाटन दिनांक 11.03.2011 को माननीय न्यायमूर्ति श्री दीपक मिश्रा, तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश, दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा किया गया।

Ø    न्यायालय कक्ष संख्या 77, कड़कड़डूमा न्यायालय परिसर में दिनांक 10.02.2012 को प्रथम सहजभेद्य गवाह बयान अदालत की स्थापना की गई। इसका उद्घाटन माननीय न्यायमूर्ति श्री अल्तमस कबीर, न्यायाधीश, सर्वोच्च न्यायालय, भारत द्वारा किया गया था।

Ø    न्यायालय कक्ष संख्या 78, कड़कड़डूमा न्यायालय परिसर में दिनांक 11.09.2013 को प्रथम सहजभेद्य गवाह बयान परिसर की स्थापना की गई। इसका उद्घाटन माननीय न्यायमूर्ति श्री एन.वी. रमन, मुख्य न्यायाधीश, दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा किया गया।

 
 
 
पता :
जिला न्यायालय कड़कड़डूमा,
दिल्ली 110032
 
दावात्याग
कॉपीराइट © 2013. दिल्ली जिला न्यायालय, सर्वाधिकार सुरक्षित .